Poem on my school in hindi. Hindi Poems on School Days and Friends 2019-02-22

Poem on my school in hindi Rating: 4,9/10 722 reviews

Miss My School

poem on my school in hindi

फल खाने की ज्यादा जरूरत तो उन्हें थी, पर कोई मुझे सेब खिलाए जा रहा था , वो थे पापा. खिलेंगे नए फूल इस गुलशन में , नयी कलियों की महक आँगन में बहेगी , जब स्कूल के जीवन की गतिविधि पूरी होगी…. I may never see any of you again. हँसीं के ठहाके , फिर थोड़ी सी शरारत , दोस्त की प्यार भरी मुस्कान , फिर थोड़ी सी नज़ाकत. My friends, Republic Day, we believe that our constitution came into effect on this day. घर से बाहर जब निकले , तो दादा जी बेंत दिखायें, क्रिकेट मैच जो देखें तो, दीदी का चैनल आड़े आये, पर शाम बोर होकर, सुबह नहा धोकर आ जाए, बड़ी मस्त होती है यहाँ, गेम्स पीरियड की केमिस्ट्री, बदल जाती है दुनिया , जब करते हैं यहाँ एंट्री. दे के जनम मां का आंचल ममता से भर जाना नया साल है! संजोयी हैं यादें यहाँ कितनी सारी , जाने ज़िन्दगी कब उड़ चली.

Next

Sweet Republic Day Poem, 26 January Poetry 2019 ♫♪♫♪♫♪

poem on my school in hindi

To view links or images in signatures your post count must be 0 or greater. Anyway copy these bast republic day poem in marathi. खिल के फूल का डाल से उतर जाना नया साल है! रिश्तेदारों की पंचायत घर की फाँके, चटखारे उसकी इच्छाओं, हिदायतों सपनों पर फेरे आरे देख न पाती बिखरे घर को अम्मा! Poem on My School in Hindi — स्कूल पर कविता यह मेरा प्यारा स्कूल नहीं सकता में इसको भूल मां ने मुझको जन्म दिया और दिया ढेर सारा प्यार स्कूल ने मेरा ज्ञान बढाकर मेरा जीवन दिया संवार खूब खेलो और पढो तुम कहती यह हमारी टीचर बड़े होकर प्रण तुम करना देश की सेवा करेंगे मिलकर कोई वकील कोई देश का नेता कोई डॉक्टर, कोई इंजिनियर होगा भारत विश्व में बनेगा अव्वल हर कोई जब शिक्षित होगा यह मेरा प्यारा स्कूल नहीं सकता में इसको भूल। -देवेन्द्र राज सुथार. Can ye measure the grief of the tears I weep Or compass the woe of the watch I keep? दुनिया की तपिश में, हमें आँचल की शीतल छाया देती है माँ…. Badal jati h duniya, Jab karte h yaha entry.


Next

Short School Poems

poem on my school in hindi

जब मैं सो रहा था तब कोई चुपके से सिर पर हाथ फिरा रहा था , वो थे पापा. You currently have 0 posts. सुबह उठने को लेकर, होती माँ से खटपट, मार्क्स मिले कभी कम तो, सुनो पापा की डांटडपट. बड़े भागते तीखे दिन वह धीमी शांत बहा करती थी शायद उसके भीतर दुनिया कोई और रहा करती थी खूब जतन से सींचा उसने फ़सल फ़सल को खेत खेत को उसकी आँखें पढ़ लेती थीं नदी नदी को रेत रेत को अम्मा कोई नाव डूबती बार बार उतराई है! But only as day, we could sleep till late. Because poems are easy to learn and due to rhymes kids are also interesting to learn. सिकुड़ी सिमटी उस लड़की को दुनिया की काली कथा मिली पापा के हिस्से का कर्ज़ मिला सबके हिस्से की व्यथा मिली बिखरे घर को जोड़ रही थी काल चक्र को मोड़ रही थी लालटेन-सी जलती-बुझती गहन अंधेरे तोड़ रही थी सन्नाटे में गूँज रही वह धीमी-सी शहनाई है! स्कूल की हर याद जैसे दिल के भीतर बस जायगी , याद आएंगे ये पल , याद आएगी ये दुनिया. Poems are a beautiful and very entertaining way for kids to learn the fundamental ways of language.

Next

मेरा स्कूल पर निबंध

poem on my school in hindi

पलट कर देख, वही महका समां है , यादों की करवटों में झूमता जहां हैं. हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ…. वर्तमान का इतिहास बन जाना नया साल है! Books of Physics, Biology and Chemistries, Books of theft and horrifying mysteries. नासमझ जान कर माफ़ करना करती हूँ तुमको प्यार मैं हर पल खामोशी तनहाई में अर्पण किए मैंने अपनी श्रद्धा के फूल तुमको जानती हूँ मिले हैं वो तुमको क्योंकि देखी है मैंने तुम्हारी निगाह प्यार गौरव से भरी मुझ पर जब भी मैं तुम्हारे बताए उसूलों पर चलती हूँ चुपचाप माँ! To view links or images in signatures your post count must be 0 or greater. !! माँ की गोदी की गर्माहट, के बराबर उनकी थपकी कंधे उनका बिस्तर मरी, आंखे हलकी सी जो झपकी!! You currently have 0 posts. भीतर -भीतर बलके फिर भी बाहर नहीं उबलती माँ! I saw that Parade, that is why I am differently satisfied. Oh Hubshee, carry your shoes in your hand and bow your head on your breast!.


Next

Farewell Poems For School Students In Hindi

poem on my school in hindi

बहुत दिनों पर आज अचानक अम्मा छत पर आई है! In kindergarten its necessary for the kids to learn poems. Visit my yahoogroups for nice mailz. Reminds me of my school and college days. क्या थे वो दिन बस यूँ ही गुज़र गए , गुमनाम इन राहों में , जाने हम कब बदल गए! बहुत दिनों पर आज अचानक अम्मा छत पर आई है! And the far sad glorious vision I see Of the torn red banners of victory? बचपन की डोर ने जाने कितने रिश्ते हैं बांधे , प्यार से , मासूम गांठें हैं बाँधीं. You were gifted by Aishwarya, my dear friend, The love between us knows no end.

Next

Mera School

poem on my school in hindi

Wherever i go, I carry you, Please never leave me, oh! वो कोमल सी निष्पाप हँसी , वो खिलखिलाता सा मन , ना जाने इन यादों में , कैसे खो गया बचपन! Always be my best friend, will you be? Republic Day Poem In Tamil On 26th January our army parade parade on Lala Fort, it looks very beautiful, then when we see it from our eyes, the army of our country parade, then there was a girl and there were also boys. Always believe in hard work, where I am today is just because of Hard Work and Passion to My work. नींद नहीं थी लेकिन थोड़े छोटे-छोटे सपने थे हरे किनारे वाली साड़ी गोटे-गोटे सपने थे रात रात भर चिड़िया जगती पत्ता-पत्ता सेती थी कभी-कभी आँचल का कोना आँखों पर धर लेती थी धुंध और कोहरे में डूबी अम्मा एक तराई है! It is not education But simply put marks. . उदये होते हुये सूरज का ढल जाना नया साल है! सपनों की नयी आस जगेगी , यादों की वही डोली सजेगी. Great poetry written, I started feeling my college days and when my friends were away. मोटी किताबें वे पढ़ जाते? बहुत दिनों पर आज अचानक अम्मा छत पर आई है! चल पड़ेंगे हम अपनी नयी दुनिया बसाने , ख़्वाबों के नए दीप जलाने.

Next

Poems on Mother in Hindi

poem on my school in hindi

I don't want to let go of the many memories we have made. You currently have 0 posts. Gathered like pearls in their alien graves Silent they sleep by the Persian waves, Scattered like shells on Egyptian sands, They lie with pale brows and brave, broken hands, they are strewn like blossoms mown down by chance On the blood-brown meadows of Flanders and France. Hello Kids, Here we have a very wide collection of Short Hindi Poems For Kids. You currently have 0 posts. You currently have 0 posts. दूर गाँव से आई थी वह दादा कहते बच्ची है चाचा कहते भाभी मेरी फूलों से भी अच्छी है दादी को वह हँसती-गाती अनगढ़-सी गुड़िया लगती थी छोटा मैं था- मुझको तो वह आमों की बगिया लगती थी जीवन की इस कड़ी धूप में अब भी वह अमराई है! मगर आप के बिन जीने में वो बात नहीं… उपर से तो सब मेरे अपने ही अपने है… मगर आप की तरह अन्दर से कोई मेरे साथ नही… ख्याल सब रखते है मेरा अपने तरीके से अच्छी तरह… म्गर अपसे जिद करने का माजा अब आता नहीं… लडाईयां तो अब भी होती है घर में हमारे… मगर आपसे वो मीठा मीठा लडने का मजा कोई दे पाता नहीं… मै आज भी शाम को दरवाजे पे नजरें टिकाये रहती हूं… आयेंगे अभी बाबा चॉकलेट और तोफे ले के मै अपने से दिल से बार बार कहती हूं… मगर जब देखती हूं आस आस आप नहीं होते… तब सच जानियें आपके ये बच्चे छिप छिप के अकेले में है बहुत रोते.

Next

Farewell Poems For School Students In Hindi

poem on my school in hindi

मेरी इज़्ज़त मेरी शौहरत… मेरा रुताब मेरा मान है पिता… मुझे हिम्मत देने वाला मेरा अभिमान है पिता…. भली गई -शशिकांत गीते अंधियारी रातों में अंधियारी रातों में मुझको थपकी देकर कभी सुलाती कभी प्यार से मुझे चूमती कभी डाँटकर पास बुलाती कभी आँख के आँसू मेरे आँचल से पोंछा करती वो सपनों के झूलों में अक्सर धीरे-धीरे मुझे झुलाती सब दुनिया से रूठ रपटकर जब मैं बेमन से सो जाता हौले से वो चादर खींचे अपने सीने मुझे लगाती -अमित कुलश्रेष्ठ माँ की ममता जन्म दात्री ममता की पवित्र मूर्ति रक्त कणो से अभिसिंचित कर नव पुष्प खिलाती स्नेह निर्झर झरता माँ की मृदु लोरी से हर पल अंक से चिपटाए उर्जा भरती प्राणो में विकसित होती पंखुडिया ममता की छावो में सब कुछ न्यौछावर उस ममता की वेदी पर जिसके आँचल की साया में हर सुख का सागर! One of the most common ways of expressing your love and gratitude towards your teachers is through poems, Poems are the perfect means for conveying heartfelt feelings to someone special. बहुत दिनों पर आज अचानक अम्मा छत पर आई है! आँखों के समक्ष हर पल की धुंधली तस्वीर लौट आएगी , कानों में जैसे हर लफ्ज़ की झंकार सुनाई पड़ जायगी. गिनती का नंबर बदल जाना नया साल है! Hindi Poems on School Days and Friends 1. इसके इलावा आप अपना कोई भी विचार हमसे comment के ज़रिये साँझा करना मत भूलिए. You currently have 0 posts. बहुत दिनों पर आज अचानक अम्मा छत पर आई है! You currently have 0 posts.

Next

मेरा विद्यालय पर निबंध / A New Essay on My School in Hindi

poem on my school in hindi

पेड़ तो अपना फल खा नही सकते इसलिए हमें देते हैं… पर कोई अपना पेट खाली रखकर भी मेरा पेट भरे जा रहा था , वो थे पापा. थिरक जायेंगे कदम नयी धुन पर , ठहर जाएगी हवा नयी सरगम पर. To view links or images in signatures your post count must be 0 or greater. Copyright © Year Posted 2013 Short School poem by I'm in agony! I enjoy being busy all the time and respect a person who is disciplined and have respect for others. Where Ganges, woods, Himalayan caves, and men dream God — I am hallowed; my body touched that sod. To view links or images in signatures your post count must be 0 or greater. जब भी कभी ठोकर लगे, तो हमें तुरंत याद आती है माँ….

Next